May 01, 2019

मईदिवस ---------- mangopeople




१- काम करने का कोई निर्धारित घंटा नहीं हैं

२- २४*७ डियूटी पर तैनात

३- पहले से निर्धारित काम के साथ ही कभी भी ओवर टाइम के लिए तैयार रहने की उम्मीद

४- अपने काम के साथ ही दुसरो के काम की करना

५- काम करने का कोई निश्चित क्षेत्र नहीं , कुक , सफाईकर्मी ,  डॉक्टर , नर्स , शिक्षक, ड्राइवर , इंजिनियर , आया , काउंसलर आदि इत्यादि दुनियां में जितने भी प्रोफेशन हैं सब कार्य

६ - कार्य करने का कोई निर्धारित एरिया नहीं  घर  के अंदर  बाहर सभी काम करने की शर्त

७ - शारीरिक और मानसिक दोनों कार्य करने की योग्यता और काम से भावनात्मक लगाव की सबसे बड़ी शर्त

८ - साल में कोई छुट्टी नहीं

९ - कोई वेतन बोनस नहीं , साल के ३६५ दिन काम बिना किसी वेतन के

१० - सिर्फ खाने कपडे और छत की शर्त पर काम * ( कंडीशन अप्लाई ) , लेकिन किसी भी चीज पर आप का हक़ नहीं | ये सब कभी भी बिना नोटिस छिना जा सकता हैं

११ - ये सब करने के बाद भी ताने की घर बैठी हैं कुछ काम नहीं करती घरेलु हैं |

१२ - सरकारे भी इन्हे अनप्रोडक्टिव  नागरिक के तौर पर देख इन्हे भिखारियों की श्रेणी में रखती रही हैं |

१३ - ये सब करने के बाद भी शारीरिक और मानसिक प्रताणना और मौत होने तक अमानवीय पिटाई आम बात |

इनकी हालत मजदूरों से भी बत्तर हैं | अनपढ़ो को छोड़ दीजिये पढ़े लिखे लोग अपना मन टटोले वो घर में काम करने वाली महिलाओं को कितना सम्मान देतें हैं उनके लिए कैसी सोच रखते हैं |

#मईदिवस






4 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सब को मजदूर दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ !!

    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 01/05/2019 की बुलेटिन, " १ मई - मजदूर दिवस - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. सार्थक लेख
    सादर

    ReplyDelete
  3. मजदूरों की दशा, दिशा को प्रदर्शित करने वाली बेहतरीन पोस्ट !!!

    ReplyDelete
  4. आवश्यक सूचना :

    सभी गणमान्य पाठकों एवं रचनाकारों को सूचित करते हुए हमें अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है कि अक्षय गौरव ई -पत्रिका जनवरी -मार्च अंक का प्रकाशन हो चुका है। कृपया पत्रिका को डाउनलोड करने हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जायें और अधिक से अधिक पाठकों तक पहुँचाने हेतु लिंक शेयर करें ! सादर https://www.akshayagaurav.in/2019/05/january-march-2019.html

    ReplyDelete